आरे जंगल की जंग सुप्रीम कोर्ट पहुंची 


धाकड़ खबर | 06 Oct 2019

आरे जंगल की जंग सुप्रीम कोर्ट पहुंची 
नई दिल्ली। बंबई उच्च न्यायालय ने मेट्रो कार शेड के लिए मुंबई के प्रमुख हरित क्षेत्र आरे कॉलोनी में पेड़ों की कटाई पर रोक लगाने से शनिवार को इनकार कर दिया. सुप्रीम कोर्ट ने उत्तरी मुंबई के आरे कॉलोनी में पेड़ की कटाई के मामले में संज्ञान लिया है और सोमवार को एक विशेष बेंच मामले की सुनवाई करेगी. जिसमें कानून के छात्रों के एक समूह द्वारा एक जनहित याचिका के लिए अदालत के सामने पहुंचेंगे. मेट्रो कार शेड के निर्माण के लिए आरे कॉलोनी में 2,600 से अधिक पेड़ों की कटाई के खिलाफ मामले की सुनवाई के लिए एक विशेष पीठ का गठन किया गया है, जिसने शहर में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया है. सुप्रीम कोर्ट के जज दशहरा के लिए 7 से 12 अक्टूबर तक छुट्टी पर हैं.
शीर्ष अदालत की वेबसाइट पर पोस्ट किए गए एक नोटिस में कहा गया है कि 6 अक्टूबर, 2019 को पत्र के आधार पर कल यानी 7 अक्टूबर, 2019 को सुबह 10 बजे एक विशेष पीठ का गठन किया गया है। नोएडा स्थित कॉलेज के कानून के छात्रों के एक समूह ने रविवार को चीफ जस्टिस ऑफ इंडिया रंजन गोगोई से संपर्क किया. उन्होंने अदालत से मुंबई में पेड़ों की कटाई को रोकने के लिए तत्काल हस्तक्षेप की मांग की. कई गैर सरकारी संगठनों और पर्यावरण कार्यकर्ताओं ने आरे कॉलोनी में करीब 2700 पेड़ों की कटाई को अनुमति देने फैसले के खिलाफ चार याचिकाएं दायर की थीं, जिसे बंबई उच्च न्यायालय ने खारिज कर दिया था. इसके बाद एमएमआरसीएल ने शुक्रवार रात कार शेड बनाने के लिये पेड़ों की कटाई शुरू कर दी थी.



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry