रवि शास्त्री ने आखिरकार मार ली बाजी, लेकिन कैसे


धाकड़ खबर | 17 Aug 2019

रवि शास्त्री ने आखिरकार मार ली बाजी, लेकिन कैसे
नई दिल्ली। रवि शास्त्री जिन्हें टीम इंडिया के मुख्य कोच के तौर पर पहले ही सबसे पसंदीदा माना जा रहा था, उन्हें स्किल्स और टीम को टॉप लेवल पर पहुंचाने की कला के दम पर मुख्य कोच चुना गया। कपिल देव की अगुवाई वाली क्रिकेट सलाहकार समिति द्वारा रवि शास्त्री को टी-20 विश्व कप 2021 तक के लिए टीम इंडिया के मुख्य कोच के रूप में फिर से नियुक्त कर लिया गया है। वह तीसरी बार टीम इंडिया के कोच बने हैं। बाॅडी के सदस्यों का कहना है कि शास्त्री का इंटरव्यू कोई भाषण नहीं था, बल्कि 40 घंटे तक उनका प्रेजेंटेशन चला। इसके बाद उनसे पूछा गया कि मध्य क्रम की जो कमी थी, उसके लिए आपने क्या किया, ये कमी क्यों रह गई? इस पर शास्त्री ने कहा, चयनकर्ताओं और मेरे बीच बातचीत में तालमेल की कमी रही। मैं चयनकर्ताओं के कमेटी का हिस्सा नहीं रहता था। यह बात सच है कि पिछले करीब एक साल के अंदर हुईं चयनकर्ताओं की बैठक में रवि शास्त्री नहीं बल्कि विराट कोहली शामिल होते रहे। हालांकि, इन बैठकों में कप्तान और कोच की सिर्फ राय होती है, लेकिन सच तो यही है कि शास्त्री बदलाव चाहते थे। ऐसी तमाम बातें कोच के चयन के दौरान भी हुईं। कोच के चयन के लिए 5 पैरामीटर्स तय किए गए थे, जिन पर शास्त्री खरे उतरे और बाजी मार ली। यह भी कहा जा सकता है कि दूसरे दावेदार उतने मजबूत नहीं थे, इसलिए शास्त्री को इसका फायदा मिला और उन्हें दो साल के लिए भारतीय क्रिकेट टीम का कोच चुन लिया गया। एक सदस्य ने बातचीत में कहा कि शास्त्री ने बताया कि टीम प्रबंधन को वे खिलाड़ी नहीं मिले, जो वे विश्व कप में मध्य क्रम के लिए चाहते थे। हालांकि, टीम प्रबंधन के पास चयन समिति की बैठकों में वोट करने का अधिकार नहीं था। शास्त्री ने कहा कि खिलाड़ियों के चयन के दौरान कप्तान और कोच के इनपुट को भी चयन प्रक्रिया में शमिल किया जाना चाहिए। हालांकि, विश्व कप के लिए टीम चयन की विसंगतियों के बारे में पूछे जाने पर मुख्य चयनकर्ता एमएसके प्रसाद ने टीम प्रबंधन पर दोष मढ़ दिया था। हालांकि, इन सब किंतु-परंतु के बीच शास्त्री को मुख्य कोच चुन लिया गया है। शास्त्री का नया कार्यकाल टी-20 विश्व कप-2021 तक होगा। 



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry