शाकिब के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की तैयारी में बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड


धाकड़ खबर | 26 Oct 2019


ढाका। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड अब टेस्ट कप्तान शाकिब अल हसन के खिलाफ कानूनी कार्रवाई करने जा रहा है। बांग्लादेशी क्रिकेटरों की हड़ताल तो खत्म हो गई और टीम के भारत दौरे पर छाए संकट के बादल भी छट गए लेकिन अब बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड टेस्ट और टी20 कप्तान शाकिब अल हसन को कारण बताओ नोटिस जारी कर रहा है। बीसीबी प्रेसीडेंट नजमुल हसन ने कहा कि यदि इस मामले में शाकिब संतुष्टिदायक जवाब नहीं दे पाए तो बोर्ड उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा। स्थानीय टेलीकॉम कंपनी ग्रामीफोन ने 22 अक्टूबर को घोषणा की थी कि देश के प्रमुख क्रिकेटर शाकिब अल हसन उसके ब्रांड एंबेसेडर होंगे। बांग्लादेशी क्रिकेटरों द्वारा हड़ताल की घोषणा के एक दिन बाद शाकिब और ग्रामीफोन कंपनी के बीच अनुबंध हुआ था। बांग्लादेशी क्रिकेटर्स की स्ट्राइक 23 अक्टूबर को खत्म हो गई थी। बांग्लादेश क्रिकेट बोर्ड (बीसीबी) के प्लेयर्स एग्रीमेंट के तहत राष्ट्रीय अनुबंध वाला कोई भी क्रिकेटर किसी टेलीकॉम कंपनी से नहीं जुड़ सकता है। नजमुल हसन ने कहा, शाकिब किसी टेलीकॉम कंपनी के साथ अनुबंध नहीं कर सकते हैं और इसके बारे में उनके बीसीबी के साथ हुए कॉन्ट्रेक्ट में साफ तौर पर लिखा है। टेलीकॉम कंपनी रोबी हमारी टाइटल स्पॉन्सर थी और ग्रामीफोन ने इसके लिए बोली भी नहीं लगाई थी। ग्रामीफोन ने इसके बजाए हमारे कुछ क्रिकेटरों को एक या दो करोड़ टका देकर अनुबंधित कर लिया और इसके चलते बोर्ड को 90 करोड़ टका का नुकसान हुआ। बीसीबी ऐसा इसलिए कर रहा है क्योंकि शाकिब ने बोर्ड के नियमों का उल्लंघन कर एक टेलीकॉम कंपनी के साथ अनुबंध किया है। नजमुल ने कहा, कुछ क्रिकेटरों को तो फायदा हुआ लेकिन बीसीबी को बड़ा नुकसान हुआ, इसलिए अब क्रिकेटरों को साफ तौर पर बता दिया गया है। मेरा मानना है कि मंत्रालय की तरफ से उन्हें निर्देश दिए गए थे कि बिनी किसी सूचना के किसी टेलीकॉम कंपनी से अनुंबध नहीं करना है। इसका कॉन्ट्रेक्ट में उल्लेख है फिर शाकिब ने अनुबंध कैसे किया। इस अनुबंध की टाइमिंग भी देखिए यह ऐसे समय किया गया जब कोई क्रिकेट नहीं चल रहा है। मुझे इसके बारे में 23 अक्टूबर को पता चला और मैंने हर्जाने के लिए ग्रामीफोन कंपनी को पत्र लिखने को कहा है। मैंने शाकिब को भी कारण बताओ नोटिस जारी करने को कहा है। हमने शाकिब से यह पूछना उचित समझा कि उन्होंने ऐसा कदम क्यों उठाया। यदि उन्होंने बोर्ड के नियम की जानबूझकर अनदेखी की है तो उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई होगी। बीसीबी प्रमुख ने कहा, हम इस मामले में कानूनी कार्रवाई करेंगे और किसी को भी नहीं छोड़ा जाएगा। हम इस मामले में क्रिकेटर और टेलीकॉम कंपनी से भी हर्जाना मांगेगे।



अन्य ख़बरें

Beautiful cake stands from Ellementry

Ellementry